हरित क्रांति के नाम एक खुला पत्र

हरित क्रांति का जनक श्री एम एस स्वामीनाथन को लिखा यह पत्र खेती को लेकर भास्कर सावे जी के विचारों का अच्छा प्रस्तुतीकरण है। पत्र में भास्कर जी लिखते हैं – मैं आशा करता हूँ यह पत्र इस गंभीर विषय पर आत्मविश्लेषण और खुले विचार विमर्श को प्रोत्साहित करेगा ताकि हम उन भारी भूलों को ना दोहराएँ जिनके कारण आज हम अव्यवस्था के दलदल में फँस से गए हैं।

आगे पढ़े

पहाड़ों में मशरूम की खेती – क्या करें और क्या नहीं!

श्री विनोद पांडे मशरूम को एक वनस्पति विज्ञानी और उद्यमी के रूप में गहराई से समझते हैं। इस लेख में हम उनसे मशरूम की खेती के उन पहलूओं के बारे में बातें करेंगे जिसे जानना एक किसान या उद्यमी के लिए बहुत जरूरी है।

आगे पढ़े

उत्तराखंड के पहाड़ों में मशरूम – इतिहास और भविष्य

सत्तर के दशक से ही पहाड़ों में मशरूम उत्पादन द्वारा रोजगार के वैकल्पिक तरीकों को बढ़ाने की कोशिश होती रही है। पर मशरूम की खेती परंपरागत खेती से पूरी तरह भिन्न है। इसमें तकनीक की प्रधानता है इसलिए उत्पादकों को ठीक से तकनीक को समझना और अपनाना आवश्यक है।

आगे पढ़े

खेती का उत्सव – हिलजातरा

ग्रामीण जीवन में मनोरंजन की दॄष्टि से लोक नाट्यों का महत्वपूर्ण स्थान है। कुमाऊँ की सोर घाटी में आयोजित होने वाली हिलजातरा ऐसा ही एक लोकनाट्य है। खेतों में हाड़ तोड़ मेहनत से फसल की बुआई और उसके बाद कटाई से उपजा सुख लोक मनोरंजन के ऐसे तत्व है जो इस लोकनाट्य का संसार बुनते हैं।

आगे पढ़े